बुधवार, 1 अप्रैल 2015

मेरा सुकून (कविता)

मुझे ये माहौल पसंद नहीं 
ये चैं -चैं  पैं-पैं,ये शोरगुल,
ये जोर-जोर से चिल्लाना ,
ये गाड़ी के हॉर्न को,
पीं -पीं करके,
देर तक जोर से बजाना,

मुझे तो पसंद है बस,
शांति में,
कागज़ कलम लेकर बैठ जाना,
सुबह सुबह,
उन दो चिड़ियों का,
यूँ प्यार से चहचहाना।
दिमाग में विचार,
और मुँह में चाय की चुस्की लेकर,
चंद शब्दों को,
कविता की माला में पिरो जाना।

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google

इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
आपकी पसंद क्या है ? चहल-पहल या शांति ?निःसंकोच लिख दीजिए।और इन पंक्तियों के बारे में अपने विचार व्यक्त करना मत भूलियेगा। 
और इसे भी देख लें http://lekhaniblogdj.blogspot.in/

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 06 अक्टूबर 2017 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अतिसुन्दर रचना! जीवन को एक नया आयाम देती हुई।

    उत्तर देंहटाएं