रविवार, 3 मई 2015

हजारों चेहरे संग मुस्कुराते हैं

जब भी मिलती हूँ तुमसे 
मन में हज़ारों भाव
हिलोरे खाते हैं 
अश्कों में भीगे ये लब 
फिर झट से मुस्काते हैं 
जब तक बिखेर न दूँ हर भाव 
तुम पर,शब्द रूप मे,
मन के कीड़े तब तक
यूँही कुलबुलाते हैं। 

फिर 

जब खोल के बैठ जाती हूँ तुम्हें 
वो पुराने किस्से खुद गुनगुनाते हैं ,
पढ़ते पढ़ते दृश्य घूम जाते हैं 
आँखों के समक्ष 
और 
पलकों से नीचे 
दो आंसू ढुलक आते हैं 
हरदम रोते सुबकते इन होठों को 
मुस्कान तो दी तुम्हीं ने थी
आज मेरी इस मुस्कान को देख 
हजारों चेहरे संग मुस्कुराते हैं। 

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google

इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
नारी का नारी को नारी के लिए  http://lekhaniblogdj.blogspot.in/

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत आभार आदरणीय।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी लगी ....उत्कृष्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए आभार मनोज जी

      हटाएं
  5. खूबसूरत।
    रचना पसंद आई।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए आभार अभिषेक जी

      हटाएं
  6. बहुत सुन्दर भाव , वाअह

    उत्तर देंहटाएं
  7. धन्यवाद जितेन्द्र जी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bahut sunadr rachna he dj ji.. or apk sang muskurane walo me ek chehra hamara b he:-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी बिलकुल रचना जी। आपको यहाँ बहुत समय बाद देखकर बहुत बहुत प्रसन्नता हो रही है।
      तकनीकी खामी को दुरुस्त कर लिया लगता है आपने। हार्दिक आभार।

      हटाएं
  9. बहुत खूब ... प्रेम मुस्कुराने की वजह दे ही देता है ...
    सुन्दर पंक्तियाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्तर
    1. स्वागत है आपका इस ब्लॉग पर। उत्साहवर्धन के लिए आभार

      हटाएं
  11. हार्दिक स्वागत महोदय। उत्साहवर्धन के लिए आभार। आशा है प्रतिक्रिया रूप में आपका मार्गदर्शन आगे भी सदैव मिलता रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. हार्दिक स्वागत आदरणीय । उत्साहवर्धन के लिए आभार। आशा है प्रतिक्रिया रूप में आपका मार्गदर्शन आगे भी सदैव मिलता रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं